गुरुवार, 1 जनवरी 2009

तुम्हारा होना

तुम्हारा होना
मन को गुदगुदाता है
सर्दियों की गुनगुनी धूप की तरह
चूमता है मेरे मस्तक को
गर्मियों के भोर की ठंडी हवाओं की तरह
भिगोता है मेरे बदन को
सावन की मादक फुहारों की तरह
लिपट जाता है मुझसे
बार बार, एक मासूम शिशु की तरह
मैं देखता हूँ
शरद के पूरे चाँद को
उतरते हुए हृदय- आकाश पर ।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें