गुरुवार, 25 दिसंबर 2008

सुख है या पीड़ा

यह सुख है या पीड़ा
जो हर पल बरस रही है मेरे अंतर्मन में
एक अनबुझ पहेली की तरह
स्मृति की नौकाएं लाद लाती हैं तुम्हारे आँगन से
तुम्हारी हँसी , तुम्हारे गीत , तुम्हारे कंगन
और तुम्हारी पायल
तुम्हारे चेहरे की आभा फैल जाती है
आँगन में चाँदनी की तरह
तुम्हारी श्वेत छवि निरखता हूँ मैं
सम्मोहित हो , एकटक
तुम्हारे कंगन खनकते हैं
तुम्हारी पायल छनकती है
जैसे सैकड़ों सितार बज उठते है एक साथ
तुम्हारी हँसी बिखरती है
जल तरंग की तरह
तुम्हारे गीतों के बोल मेरे होठों पर
बिखर जाते हैं मुस्कराहट बनकर
मैं गाता हूँ सातो सुरों में
नाचता हूँ उन्मत्त होकर
आनंद के अतिरेक में
मेरे हाथ उद्यत हो उठते हैं
तुम्हे छू लेने को
छन्न से टूटता है कुछ
और सब कुछ लुप्त हो जाता है
एक पल में स्वप्न की तरह
बच जाता है
धुंध , रिक्तता और छटपटाहट.

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें