शुक्रवार, 27 जनवरी 2012

पुनरावृत्ति

जीवन भर
हम पुनरावृत्ति करते हैं
शब्दों की,
भावनाओं की,
क्रियाओं की,

और गढ़ते हैं
नई बातें...नई कविताएँ,
नए आकर्षण...नए रिश्ते,
नए संसाधन...नए प्रयोजन,
निरंतर...पूरे उत्साह से.

ऐसा नहीं कि
पुनरावृत्ति नीरस और उबाऊ नहीं होती...
..................होती है...
किन्तु, तब तक नहीं
जब तक
उससे नवीनता जनमती है.

3 टिप्‍पणियां:

  1. सच कहा - जो पहले से विद्यमान है उसी से नव-निर्माण की प्रक्रिया -नई रचना, संपन्न होती है !

    उत्तर देंहटाएं