रविवार, 9 मई 2010

आँच गर ज्यादा करोगे रोटियाँ जल जाएँगी


मत हवा दो, अध-बुझी चिंगारियाँ जल जाएँगी
आग जो भड़की दिलों में, पीढ़ियाँ जल जाएँगी

ख़ुद-परस्ती की शमाँ से यूँ घर रोशन करो
बेगुनाहों की बहुत सी बस्तियाँ जल जाएँगी

यूँ फेंको प्यार के दरिया में नफरत की मशाल !
लग गई जो आग सारी कश्तियाँ जल जाएँगी

बैठ ऊँची कुर्सियों पर आग में डालो न घी
गर लपट ऊँची उठी तो कुर्सियाँ जल जाएँगी

सब्र से सेंको, चिता की आग के सौदागरों !
आँच गर ज्यादा करोगे रोटियाँ जल जाएँगी

3 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतरीन पंक्तियां हैं प्रताप जी।
    सिर्फ एक शब्द ..अनेकों.. पर आपत्ति है।
    अनेक शब्द अपने आपमें बहुवचन है। अनेकों जैसा कोई शब्द नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. हर रंग को आपने बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों में पिरोया है, बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. "आग जो भड़की दिलों में, पीढ़ियाँ जल जाएँगी"
    "बैठ ऊँची कुर्सियों पर आग में डालो न घी
    गर लपट ऊँची उठी तो कुर्सियाँ जल जाएँगी"

    कुर्सियां तो जलनी ही है एक दिन !

    उत्तर देंहटाएं