बुधवार, 5 अक्तूबर 2011

आर्तनाद

तुम चली गई
मुझे एक अंतहीन नीरवता से आच्छादित करके.
मेरे तर्क
जो कभी मेरी मिथ्या श्रेष्ठता सिद्धि के वाहक होते थे,
आज मेरी तरफ भृकुटी ताने खड़े हैं.

मैंने तुम्हें चाहा था बहुत....पूरे अंतर्मन से...
हर पल तुम्हारी अभिलाषा की थी
हर क्षण तुम्हारी प्रतिच्छाया में ही लिपटा रहा
मेरे अन्तस्थ और बहिरत तुम ही रही

नहीं...मिथ्या हैं ये शब्द.....बिल्कुल मिथ्या !

सच तो यह है कि
मैंने चाहा था तुम्हारे चक्षुओं में
प्रतिष्ठित अपनी आकृति को
मैंने चाहा था मुझे निरख
तुम्हारे मुख पर प्रस्फुटित उल्लास को
मैंने चाहा था मुझमें राग भरते
तुम्हारे घन-केश, संदल-देह और स्नेहिल अंकमाल को
मैंने चाहा था, मेरे निमित्त
तुम्हारे हर क्रिया कलाप को
मैंने चाहा था तुममें
मात्र अपने आप को.

कहाँ चाह पाया था तुम्हें कभी?
कहाँ आत्मसात कर सका था तुम्हारे स्व को?
कहाँ विगलित कर पाया अपना स्वत्व तुममे.
कहाँ जी पाया एक क्षण के लिए भी "तुम' बनकर.
कुछ भी तो नहीं दे सका तुम्हें.
अपने अहम् का
एक अंश भी नहीं समर्पित कर सका.

अन्यथा तुम नहीं जाती....
तुम नहीं जा पाती....
यदि समर्पण का कुछ भार डाल दिया होता तुम पर
तुम नहीं अलग हो पाती
यदि स्वयं को थोड़ा मिला दिया होता तुममें.

किन्तु मैं ऐसा कर नहीं पाया...
और तुम चली गई
मुझसे निराश होकर.....

(स्वगत)
अजीब सी नीरवता है....
नहीं, यह नीरवता नहीं
मेरे खंडित अहम् का आर्तनाद है.

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें