रविवार, 10 अप्रैल 2016

अच्छा लगता है


अच्छा लगता है 
कभी कभी अतीत के पन्नो को पलटना 
किसी पृष्ठ पर रुक कर उसे हौले से सहलाना
और उस पर उभर आई तस्वीरों में कुछ देर के लिए गुम हो जाना 

अच्छा लगता है 
चलते चलते कभी ठिठक जाना 
पीछे मुड़कर पगडंडियों के घुमाव को देखना 
और अपने स्थितिजन्य साहस पर आत्म-मुग्ध हो जाना 

अच्छा लगता है 
कभी, किसी का, "हमारे अनकहे" को समझ जाना 
अपनी निःशब्द बातों का प्रत्युत्तर पाना  
और अंतह की रिक्तता का मधुर अहसासों से भर जाना

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें