गुरुवार, 7 अप्रैल 2016

आदमी जो सोचता है


यूँ तो अपनी ओर से कोई कसर कब छोड़ता है
पर कहाँ होता भला वो, आदमी जो सोचता है

नींद रातों की, सुकूँ दिन का नहीं बिकता कहीं भी
इन को पाने का हुनर तो बस फ़कीरों को पता है

एक पल में है बुरा; अच्छा बहुत ही दूसरे पल
क्या अजब फितरत, कभी दानव, कभी वो देवता है

ज़िन्दगी के नाव की पतवार रिश्तों का यकीं है 
डूब जाती एक दुनिया, जब भरोसा टूटता है  

धूप या छाया मिले, स्वीकारना पड़ता सभी को
पर रखे समभाव कैसे, कोई विरला जानता है 

दर्द भी, आनंद भी, सौगात भी, संघर्ष भी है
बात ये कि ज़िन्दगी को कौन कैसे देखता है

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें