रविवार, 10 अप्रैल 2016

घट रीता; कैसे भर पाऊँ



घट रीता;  कैसे भर पाऊँ 
पल बीता; कैसे फिर लाऊँ 

जिस पर तेरा चिह्न नहीं है 
उस पथ पे क्यों कदम बढ़ाऊँ 
भोर अकेला, साँझ उदासी 
रात दुखी, कुछ कर न पाऊँ     

बदल चुका बगिया का मौसम 
कैसे कोपल को समझाऊँ 

कौंधे जब मुस्कान हृदय में 
पुनि पुनि मैं बलिहारी जाऊँ 
काश कभी ऐसा हो जावे 
आँख खुले तो तुमको पाऊँ

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें